How to Buy stocks online without a broker in Hindi

How to Buy stocks online without a broker

Share market एक ऐसा है जहां से आप कम समय मै भी काफी अच्छी कमाई कर सकते हैं। आज की तारीक मै लोग अपने पैसे को Invest करने के लिए भी शेयर मार्केट का प्रयोग करते है क्युकी उन्हे वही पैसे Banks मै Save करके उतना इंट्रेस्ट नही मिल पाता जितना अगर वह थोड़ी जांच करके किसी अच्छे स्टॉक्स मै Invest कर दे तो Bank के 5 साल Interest rate के बराबर Stocks एक साल मै निकल कर दे सकते हैं। लेकिन यह चीज उतनी आसान भी नहीं है जितनी लोग समझते हैं एक अच्छा Stock  ढूंढ कर उसमें इंवेस्ट करना आसान नहीं इसके लिए अच्छी knowledge और Experience की जरूरत होती है उसके लिए आपको मार्केट मै Brokers मिल जायेंगे। लेकिन वही Brokers काफी हाई चार्ज करते हैं।

इसके लिए ही हम आपके लिए यह आर्टिकल ले कर आए हैं। इसमें हम आपको बताएंगे How to invest and Buy shares online without broker ( Buy Stocks without broker, How to invest in Share Market without Broker) तो चालिए जानते हैं कैसे आप कर सकते हैं और क्या क्या वह तरीके हैं।

How to Buy shares online without broker ( बिना ब्रोकर के शेयर कैसे खरीदें )

हां यह संभव है बिना ब्रोकर के शेयर के भी आप Stocks Buy या Sell कर सकते हैं। इसके 3 तरीके होते हैं जिसमें पहला है आप अपना Online Brokerage Account खुलाएं दूसरा की आप Dividend Reinvestment Plan मै Invest करें और तीसरा की आप Direct Stock purchase करें।

In how many ways we can invest without a Broker ?

There are three ways which you can invest in stock/share market without broker. which are listed below in article…

इस आर्टिकल मै हम आपको इन तीनों तरीको के बारे मै विस्तार से बताएंगे और साथ ही इनके फायदे और नुकसान भी बताएंगे।

तो चलिए जानते हैं सबसे पहले Direct Stock Purchase Plans के बारे मै।

1. Best Local Business Ideas In Hindi | Low Budget Business Ideas

2. How to Travel World for free in Hindi ( बिना पैसे के दुनिया कैसे घूमे )

Direct Stock Purchase Plan ( डायरेक्ट स्टॉक परचेज प्लान )

Direct stock Purchase plan सभी इन्वेस्टर्स के लिए लिए एक बोहोत अच्छा विकल्प है। इसमें सभी इन्वेस्टर्स Direct Company से कम्पनी के शेयर खरीद सकते हैं। इसमें ट्रेड कम्पनी के ट्रान्सफर एजेंट के द्वारा आप कॉमनी के शेयर खरीद सकते है । इस तरह आप बिना ब्रोकर के द्वारा स्टॉक्स ख़रीद सकते हैं।

DSPP लगभग सभी कंपनियों एक विकल्प होता हैं जिनका Stock Exchange मै कारोबार होता है। लेकिन सभी Companies का Initial investment करने का Amount fix रहता है जिससे कम मै आप कम्पनी के Stocks नही ख़रीद सकते।

DSPP के फायदे

Direct Stock purchase plan अपने अलग ही फायदे होते हैं। जिसमें से नीचे कुछ दिए हुए हैं।

  • एक बार मैं एक कम्पनी के ज्यादा रकम के स्टॉक ख़रीद पाते हैं। डीएसपीपी इन्वेस्टर्स को ज्यादा रकम के स्टॉक्स खरीदने के लिए एक Strategy के ज़रिए अनुमति देती हैं जिसको “Set it And Forget it” के नाम से जाना जाता है।
  • DSPP मै आपको कोई Commission या कोई Fees नही होती जबतक की आपका Amount Set ना हो जाए। और बिल्कुल इसमें Broker के अलग से कोई Charges नहीं लगते।
  • DSPP स्टॉक एक्सचेंज मै कई बार इन्वेस्टर्स को अच्छे खासे डिस्काउंट्स भी मिल जाते हैं। हालाकी ये Companies पर निर्भर करता है कुछ Companies 1-10% तक का Discounts भी देती है।

DSPP के नुकसान

अभी हमने ऊपर DSPP के कुछ फायदे देखे लेकिन अगर किसी चीज के अगर फायदे हैं तो ये सामान्य है की उसके कुछ न नुकसान भी होंगे।हमे दोनो चीजों का पता होना जरूरी है। तो चलिए जानते हैं डीएसपी के नुकसान क्या हो सकते हैं।

  • अपको DSSP Account के शुरु करने के कुछ Cost लगता है जोकि लगभग $250 से $500 तक हो सकता है। जिससे आगे आप स्टॉक खरीदने मै इस्तेमाल नहीं कर पायेंगे।
  • डीएसपी हर एक कंपनी का अलग काम करता है। तो अगर आप investor हैं और आप अलग अलग Companies के स्टॉक्स खरीदना चाहते है तो आपको सभी कम्पनियों का अलग अलग account बनाना होगा।
  • अगर आप Short टाइम के लिए Shares मै इंवेस्ट करना चाहते हैं तो DSSP से आप न करें। ये ज्यादातर Long Term Investment के लिए काम करता है। ज्यादातर Companies Allow भी नही करती एक निर्धारित समय से कम के लिए।

Dividend Reinvestment Plan (डिविडेंड री इन्वेस्टमेंट प्लान )

डिविडेंड रेनवेस्टमेंट प्लान कई हद तक DSPP की तरह है यहां तक कुछ DSPP programs  DRIP program भी ऑफर करता है । इन्वेस्टर्स इसमें भी डायरेक्ट पब्लिक ट्रेड कम्पनी से स्टॉक ख़रीद सकते हैं। साथ ही वह रेनवेस्टमेंट प्लान के जरिए भी कम्पनी मै इंवेस्ट कर skte हैं।

डिविडेनड रेनवेस्टमेंट प्लान के फायदे

DRIP और DSPP के से काफी सामान्य से फायदे हैं जिसमें से सबसे बड़ा फायदा यह है कि दोनो प्रोग्राम्स मैं हम बिना ब्रोकर के वे कंपनीज में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

  • DRIP Investors को दोबारा बिना फंड add किए reinvest और Grow करने ऑप्शन देता है।
  • डिविडेंड मै इन्वेस्टमेंट के लिए कोई फीस नहीं ली जाती और इन्वेस्टर्स को उनके मुताबिक शेयर खरीदने की अनुमति होती है।

डिविडेंड रेनवेस्टमेंट् प्लान के नुकसान

DRiP के भी DSPP प्रोग्राम जैसे कुछ नुकसान भी हैं। जिसको ध्यान मै रखना भी जरूरी है।

  • सभी कंपनी जो DSPP ऑफर करती हैं तो यह जरूरी नहीं है की वह DRIP भी ऑफर करती है। इसका मतलब अपको कुछ चुनिंदा स्टॉक्स मै से ही चुना पद सकता है।
  • डिविडेंड रेनवेस्टमेंट प्लान मै आपको टैक्स भी देना पड़ता है हालाकि वह भी कैश ऑटोमेटिकली आपके DRIP मै Reinvest हो जाता है। लेकिन Investors के प्रोफिट्स पर उनको टैक्स लग सकता है। यह सब चीजें आपको कंपनी की पॉलिसी मै पढ़ने को मिल जायेगी ।

ऑनलाईन ब्रोकरेज अकाउंट

जैसा कि आजकल सभी चीज ऑनलाइन होती हैं उसी तरह हम ऑनलाइन स्टॉक्स buy या sell कर सकते हैं बिना कैसे फुल सर्विस ब्रोकर के और यह सब हो पाता है ऑनलाइन ब्रोकरेज अकाउंट के जरिए।

Online brokerage account के ज़रिए यूजर ऑनलाईन इंटरफेस के माध्यम से ही online broker को यह समझा सत्ता है कि उसे क्या खरीदना है और कितने का खरीदना है उसके बाद ब्रोकर उसके जरिए ऑर्डर को कंप्लीट करता है। हालांकि यह प्रोकर पर डिपेंड करता है के वह इसके लिए कितना कम चार्ज करता है या नहीं करता।

ऑनलाइन ब्रोकरेज अकाउंट के फायदे

  • जब भी बात ऑनलाइन इन्वेस्टिंग की आती है तो लोग सोचते हैं कि कम फीस लगे हाल ही में ज्यादातर कंपनियों ने अपने ब्रोकर्स कि जो भी कमीशन हुआ करती थी वह हटा दी है जिससे इन्वेस्टर्स को काफी फायदा हुआ है।
  • ऑनलाईन ब्रोकरेज अकाउंट से इन्वेस्टर्स को उनका प्लान choose करने और प्लांस को कस्टमाइज करने की सुविधा प्रदान करता है। जिससे कस्टमर का भरोसा भी बढ़ता है।
  • आज के समय में ऑनलाइन ब्रोकरेज अकाउंट की डिमांड भी काफी है।

ऑनलाइन ब्रोकरेज अकाउंट के नुकसान

  • जहां तक बात है ऑनलाइन ब्रोकरेज सिस्टम की तो यह इन्वेस्टर्स को एक आज़ादी देता है अपनी चॉइस के अकॉर्डिंग किसी भी प्लान में इन्वेस्ट करने की लेकिन वहीं अगर इन्वेस्टर बिना रिसर्च किए किसी गलत प्लान में अपना सादा रखो लगा देता है तो वह बाद में स्ट्रेसफुल हो जाता है।

Conclusion :

आशा करते है कि आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आपको पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें इससे हमे मदद हो जायेगी आप लोगो के इंट्रेस्ट को जानने मै ।

बाकी अगर हमारी पर्सनल Advice की बात करें तो हम कहेंगे की अगर आप कोई बड़ी इन्वेस्टमेंट करने की सोच रहे हैं और आप Beginn हैं तो आप जरुर किसी ब्रोकर को Hire करें इससे आपको बोहोत आसानी हो जायेगी।

आपकी सुविधा के लिए बता दे की ब्रोकर किस काम आते हैं ब्रोकर का क्या काम होता है?

जैसा कि उनके नाम से ही पता चलता है स्टॉक ब्रोकर जोगी स्टॉक्स के लिए ट्रेड करवाते हैं और Clints की सुविधा के अनुसार उन्हे सिक्योरिटी प्रदान करते है। बदले मै वह उस ट्रेड के जरिए कुछ कमीशन लेते हैं।

स्टॉकबोकर्स क्लाइंट्स अपने Experience से Clints  के लिए बेस्ट डील्स दिलवाने मै मदद करते है। साथ ही बेहतर Tips और Suggestions भी देते है जिससे आपका ज्यादा से ज्यादा फायदा हो सके क्योंकि इससे उनका भी फायदा होता है। उनकी सैलरी ज्यादातर कमीशन पर निर्भर करती है।

Follow us on Intsagram : Follow

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here